मैं और मेरा चांद

सबसे बडा रहबर मेरा वो चांद ही तो है

 

जाऊं कही भी मगर मेरे साथ ही तो है

 

ऐ! जिंदगी शिकवा करूं तो क्या करूं 

 

जो भी दिया है तूने मेरे पास ही तो है

 

आयेगी जब भी याद तेरी मुझको ऐ सनम

 

तस्वीर तेरी दिल में मेरे पास ही तो है

 

सबसे बडा रहबर मेरा वो चांद ही तो है"
 

  2 comment(s).
    Anonymous Visitor     16 Jan 2019
Very good. keep it up.
  
    Anonymous Visitor     09 Dec 2018
Good poem
  
  Leave a comment   (upto 500 characters)




 
Do you have a story? Just give a wonderful title and write.it's free!